विश्व पर्यावरण दिवस 2018, World Environment Day or Paryavaran Diwas Hindi

विश्व पर्यावरण दिवस 2018, World Environment Day or Paryavaran Diwas Hindi

2259
0
SHARE
World Environment Day

World Environment Day or Paryavaran Diwas Hindi

World Environment Day Hindi or Paryavaran Diwas History sanrakshan essay, Slogan in Hindi विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day ) संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रकृति को समर्पित दुनियाभर में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा उत्सव या हम उसे पर्व कह सकते है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित यह दिवस पर्यावरण (Environment ) के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनितिक और सामाजिक जागृति लाने के लिए काम करता है. 5 जून 1973 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस (5 June 1973 World Environment Day) मनाया गया।

विश्व भर के देशों का पहला पर्यावरण सम्मेलन (First World Environment Day in Sweden) स्वीडन में आयोजित किया। इसमें 119 देशों ने भाग लिया और पहली बार एक ही पृथ्वी का सिद्धांत मान्य किया।

विश्व पर्यावरण दिवस का इतिहास World Environment Day History in Hindi

पूरे विश्व में आम लोगों को जागरुक बनाने के लिये साथ ही कुछ सकारात्मक पर्यावरणीय कार्यवाही को लागू करने के द्वारा पर्यावरणीय मुद्दों को सुलझाने के लिये, मानव जीवन में स्वास्थ्य और हरित पर्यावरण के महत्व (World Environment Day Mahatva ) के बारे में वैश्विक जागरुकता को फैलाने के लिये वर्ष 1973 से हर 5 जून को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में विश्व पर्यावरण दिवस World Environment Day (डबल्यूईडी के रुप में भी कहा जाता है) को मनाने की शुरुआत की गयी जो कि कुछ लोगों, अपने पर्यावरण (World Environment Day History) की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी सिर्फ सरकार या निजी संगठनों की ही नहीं बल्कि पूरे समाज की जिम्मेदारी है ।

1972 में संयुक्त राष्ट्र में 5 से 16 जून को मानव पर्यावरण (Environment) पर शुरु हुए सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र आम सभा और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनइपी) के द्वारा कुछ प्रभावकारी अभियानों को चलाने के द्वारा हर वर्ष मनाने के लिये पहली बार विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) की स्थापना हुयी थी। इसे पहली बार 1973 में कुछ खास विषय-वस्तु के “केवल धरती” साथ मनाया गया था। 1974 से, दुनिया के अलग-अलग शहरों में विश्व पर्यावरण उत्सव (World Environment Day Festival) की मेजबानी की जा रही है।

कुछ प्रभावकारी कदमों को लागू करने के लिये राजनीतिक और स्वास्थ्य संगठनों का ध्यान खींचने के लिये साथ ही साथ पूरी दुनिया भर के अलग देशों से करोड़ों लोगों को शामिल करने के लिये संयुक्त राष्ट्र आम सभा के द्वारा ये एक बड़े वार्षिक उत्सव की शुरुआत की गयी है।

Also Read: सिंघम मनु महाराज का जीवन परिचय

आधुनिक युग में पर्यावरण प्रदूषण फैलने का प्रकार (Different Types of Pollution in Hindi) Accordingly, the main types of pollution are:

वायु प्रदूषण (Air Pollution)
जल का प्रदूषण (Water Pollution)
मिट्टी का प्रदूषण (Soil Pollution)
तापीय प्रदूषण (Light Pollution)
विकरणीय प्रदूषण,
औद्योगिक प्रदूषण,
समुद्रीय प्रदूषण,
रेडियोधर्मी प्रदूषण (Radioactive Pollution)
नगरीय प्रदूषण,
प्रदूषित नदिया

इसके कारण जलवायु बदलाव तथा ग्लोबल वार्मिंग के खतरे लगातार संकेत दे रहे हैं। लेकिन फिर भी हम लोग सुधर नही रहे है. दिन पर दिन लगातार गंदगी फैला रहे है और अपने सुविधा के लिए पेड़ो को काटे जा रहे है. हमलोगों को मिलकर इसपर रोक लगाना चाहिए तभी हमारा समाज और देश, दुनिया रहने लायक बनेगी। ऐसी हालत में इतिहास की चेतावनी ही पर्यावरण दिवस (World Environment Day Hindi) का सन्देश लगती है।

 

विश्व पर्यावरण दिवस का थीम और नारे World Environment Day, Slogan on Pollution in Hindi

विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) पर पर्यावरणीय मुद्दों को बताने के लिए विश्व भर से बड़ी संख्या में लोग भाग लेने के आते है और इस विश्व पर्यावरण दिवस उत्सव (World Environment Day Utsav 2018) को बढ़ावा देने के लिये संयुक्त राष्ट्र के द्वारा निर्धारित खास थीम पर हर वर्ष का विश्व पर्यावरण दिवस उत्सव (World Environment Day Utsav 2018) आधारित होता है।


विभिन्न वर्षों के आधार पर दिये गये थीम और नारे यहाँ सूचीबद्ध है (Slogan on World Environment Day in Hindi):

  • वर्ष 2016 का थीम है “दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए दौड़ में शामिल हों”।
  • वर्ष 2015 का थीम था “एक विश्व, एक पर्यावरण।”
  • वर्ष 2014 का थीम था “छोटे द्वीप विकसित राज्य होते है” या “एसआइडीएस” और “अपनी आवाज उठाओ, ना कि समुद्र स्तर।”
  • वर्ष 2013 का थीम था “सोचो, खाओ, बचाओ” और नारा था “अपने फूडप्रिंट को घटाओ।”
  • वर्ष 2012 का थीम था “हरित अर्थव्यवस्था: क्यो इसने आपको शामिल किया है?”
  • वर्ष 2011 का थीम था “जंगल: प्रकृति आपकी सेवा में।”
  • वर्ष 2010 का थीम था “बहुत सारी प्रजाति। एक ग्रह। एक भविष्य।”
  • वर्ष 2009 का थीम था “आपके ग्रह को आपकी जरुरत है- जलवायु परिवर्तन का विरोध करने के लिये एक होना।”
  • वर्ष 2008 का थीम था “CO2, आदत को लात मारो- एक निम्न कार्बन अर्थव्यवस्था की ओर।”
  • वर्ष 2007 का थीम था “बर्फ का पिघलना- एक गंभीर विषय है?”
  • वर्ष 2006 का थीम था “रेगिस्तान और मरुस्थलीकरण” और नारा था “शुष्क भूमि पर रेगिस्तान मत बनाओ।”
  • वर्ष 2005 का थीम था “हरित शहर” और नारा था “ग्रह के लिये योजना बनाये।”
  • वर्ष 2004 का थीम था “चाहते हैं! समुद्र और महासागर” और नारा था “मृत्यु या जीवित?”
  • वर्ष 2003 का थीम था “जल” और नारा था “2 बिलीयन लोग इसके लिये मर रहें हैं।”
  • वर्ष 2002 का थीम था “पृथ्वी को एक मौका दो।”
  • वर्ष 2001 का थीम था “जीवन की वर्ल्ड वाइड वेब।”
  • वर्ष 2000 का थीम था “पर्यावरण शताब्दी” और नारा था “काम करने का समय।”
  • वर्ष 1999 का थीम था “हमारी पृथ्वी- हमारा भविष्य” और नारा था “इसे बचायें।”
  • वर्ष 1998 का थीम था “पृथ्वी पर जीवन के लिये” और नारा था “अपने सागर को बचायें।”
  • वर्ष 1997 का थीम था “पृथ्वी पर जीवन के लिये।”
  • वर्ष 1996 का थीम था “हमारी पृथ्वी, हमारा आवास, हमारा घर।”
  • वर्ष 1995 का थीम था “हम लोग: वैश्विक पर्यावरण के लिये एक हो।”
  • वर्ष 1994 का थीम था “एक पृथ्वी एक परिवार।”
  • वर्ष 1993 का थीम था “गरीबी और पर्यावरण” और नारा था “दुष्चक्र को तोड़ो।”
  • वर्ष 1992 का थीम था “केवल एक पृथ्वी, ध्यान दें और बाँटें।”
  • वर्ष 1991 का थीम था “जलवायु परिवर्तन। वैश्विक सहयोग के लिये जरुरत।”
  • वर्ष 1990 का थीम था “बच्चे और पर्यावरण।”
  • वर्ष 1989 का थीम था “ग्लोबल वार्मिंग; ग्लोबल वार्मिंग।”
  • वर्ष 1988 का थीम था “जब लोग पर्यावरण को प्रथम स्थान पर रखेंगे, विकास अंत में आयेगा।”
  • वर्ष 1987 का थीम था “पर्यावरण और छत: एक छत से ज्यादा।”
  • वर्ष 1986 का थीम था “शांति के लिये एक पौधा।”
  • वर्ष 1985 का थीम था “युवा: जनसंख्या और पर्यावरण।”
  • वर्ष 1984 का थीम था “मरुस्थलीकरण।”
  • वर्ष 1983 का थीम था “खतरनाक गंदगी को निपटाना और प्रबंधन करना: एसिड की बारिश और ऊर्जा।”
  • वर्ष 1982 का थीम था “स्टॉकहोम (पर्यावरण चिंताओं का पुन:स्थापन) के 10 वर्ष बाद।”
  • वर्ष 1981 का थीम था “जमीन का पानी; मानव खाद्य श्रृंखला में जहरीला रसायन।”
  • वर्ष 1980 का थीम था “नये दशक के लिये एक नयी चुनौती: बिना विनाश के विकास।”
  • वर्ष 1979 का थीम था “हमारे बच्चों के लिये केवल एक भविष्य” और नारा था “बिना विनाश के विकास।”
  • वर्ष 1978 का थीम था “बिना विनाश के विकास।”
  • वर्ष 1977 का थीम था “ओजोन परत पर्यावरण चिंता; भूमि की हानि और मिट्टी का निम्निकरण।”
  • वर्ष 1976 का थीम था “जल: जीवन के लिये एक बड़ा स्रोत।”
  • वर्ष 1975 का थीम था “मानव समझौता।”
  • वर्ष 1974 का थीम था “ ’74’ के प्रदर्शन के दौरान केवल एक पृथ्वी।”
  • वर्ष 1973 का थीम था “केवल एक पृथ्वी।”
    Source:  hindikiduniya.comWorld Environment Day 2018 in Hindi पर हमारा आर्टिकल कैसा लगा अगर आपको अच्छा लगा तो आप जरुर Facebook, Twitter पर लाइक एंड शेयर करे और News in Hindi के लिए में पढ़ते रहिये.
data-matched-content-rows-num="2" data-matched-content-columns-num="2" data-matched-content-ui-type="image_stacked">