गर्भधारण करने का तरीका How to get pregnant in Hindi ?

गर्भधारण करने का तरीका How to get pregnant in Hindi ?

549
0
SHARE
how to get pregnant in hindi

How to get pregnant in Hindi आज हम बात करेंगे Pregnancy Tips के बारे में ,यानि गर्भधारण करने के तरीके, गर्भधारण का उचित समय, गर्भधारण कैसे होता है, गर्भवती कैसे होती है, गर्भधारण कैसे करे, गर्भ कब नही ठहरता है ये सारे सवालो का जवाब बहुत ही सरल और आसान है।

हर महिला का एक सपना होता है की उसको बच्चा सही समय पर हो जाये। समाज में हमे बहुत ऐसे मामले देखने को मिलते है की विवाह के कई साल बाद तक भी कोई बच्चा नही हुआ और बाद में जब जाँच होती है कोई कमी या त्रुटि नही निकल जाती है।  ये दिक्कत उनको होता है जिनके पास गर्भधारण Pregnancy tips के बारे में पता नही होता है। गर्भधारण की समस्या को देखते हुए हम आपको गर्भधारण के बारे कुछ महत्वपूर्ण सुझाव देंगे

How to get pregnant in Hindi ? गर्भधारण करने का तरीका

अगर आपको वाकई दिक्कत है तो डॉक्टर से बात करने की जरूरत नहीं है और किसी भी नुस्खे खरीदने की आवश्यकता नहीं है। आयुर्वेदिक से हर इलाज सम्भव है,आयुर्वेदिक की जड़ी बूटी का उयोग करने से आपके शरीर में एक अत्यधिक ऊर्जा का संचार और बेहतर गुणवत्ता के शुक्राणु बनाने में मदद करती है ।आयुर्वेदिक का कोई बुरा प्रभाव पड़ता है। यह एक पूरी तरह से प्राकृतिक उपचार है शुक्राणु बढ़ाने वाला अचूक नुस्ख़ा। how to get pregnant in hindi

ऐसा माना जाता है की अगर 3 या 4 साल में बच्चा पैदा नही होता है तो उसे बांझपन का लक्षड़ माना जाता है (A disease of the reproductive system) कहते हैं। ऐसे मामला में केवल स्त्री के कारण नहीं होती। केवल एक तिहाई मामलों में Infertility स्त्री के कारण होती है। दूसरे एक तिहाई में पुरूष के कारण होती है। शेष एक तिहाई में स्त्री और पुरुष के मिले जुले कारणों से या अज्ञात कारणों से होती है।

बांझपन के कारण, बांझपन क्यों होता है ?  how to get pregnant.

बांझपन प्रजनन प्रणाली समस्या की एक बीमारी है जिसके कारण किसी औरत के गर्भधारण में समस्या उत्पन्न हो जाती है । प्रेगनेंसी Pregnancy एक जटिल प्रक्रिया है जो निम्न बातों पर निर्भर करती है- पुरुष द्वारा स्वस्थ शुक्राणु तथा औरत द्वारा स्वस्थ अंडों का उत्पादन, अबाधित गर्भ नलिकाएं ताकि शुक्राणु बिना किसी रुकावट के अंडों तक पहुंच सके, मिलने के बाद अंडों को निषेचित करने की शुक्राणु की क्षमता निषेचित अंडे की महिला के गर्भाशय में स्थापित होने की क्षमता तथा गर्भाशय की स्थिति।अंत में गर्भ के पूरी अवधि तक जारी रखने के लिए गर्भाशय का स्वस्थ होना और भ्रूण के विकास के लिए महिला के हारमोन का अनुकूल होना जरूरी है। इनमें से किसी एक में विकृति आने का परिणाम बांझपन हो सकता है। how to get pregnant in hindi.

Also Read: प्रेग्नेंसी के दौरान तुलसी की पत्ती बहुत लाभकारी होता है

पुरुषों में प्रजनन क्षमता में कमी का सबसे सामान्य कारण तब होता है जब शुक्राणु का कम या नहीं होना है। कभी-कभी शुक्राणु का गड़बड़ होना या अंडों तक पहुंचने से पहले ही उसका मर जाना भी बांझपन एक कारण होता है। महिलाओं में बांझपन का सबसे सामान्य कारण मासिक-चक्र में गड़बड़ी है। इसके अलावा गर्भ-नलिकाओं का बंद होना, गर्भाशय में विकृति या जननांग में गड़बड़ी के कारण भी अक्सर गर्भपात हो सकता है। how to get pregnant in Hindi.

गर्भवती कैसे हों ? गर्भधारण करने का तरीका, How to get pregnant in Hindi.

जब स्त्री को महावारी (Menstruation) शुरू हो तब है। 7 दिन तक महावारी के समय स्त्री को अछूत माना जाता है उस समय स्त्री को कोई काम नही करना चाहिए। मन से खुश रहे। पति से से अच्छे से बात करे और खुश रहे है। विचार में शुद्धता रखें, महावारी खत्म होने पर अच्छे स्नान करें। सबसे पहले अपने पति को देखे या शीशे में खुद को देखे। इन दिनों में स्त्री को खुश सात्विक अच्छे विचारों से युक्त रहना चाहिए। गर्भवस्था के समय (At the time of conception) स्त्री को मन में अच्छे विचार अच्छी भाषा का प्रयोगकरना चाहिए, अगर आप गलत करते है तो इसका प्रभाव आपके गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ता है इस लिए आपको अच्छे तरीके से रहना चाहिए।

Also Read: Pregnancy tips-in hindi

गर्भधारण के आसान उपाय, The easy solution of conception

गर्भाधान के दिन से (From conception.) ही चावल, खीर, दूध, भात, रात को सोते समय शतावरी का चूर्ण दूध के साथ लेना चाहिए।

सुबह मक्खन और मिश्री मिलाकर एक एक चम्मच पीसी काली मिर्च मिलाकर चाटना चाहिए और ऊपर से कच्चा नारियल और सौंफ खाना चाहिए।

पीपल के सूखे फलों के 1-2 ग्राम चूर्ण की फंकी कच्चे दूध के साथ पीरियड के खत्म होने बाद 14 दिन तक देने से औरत का बांझपन मिट जाता है।

लगभग 250 ग्राम पीपल के पेड़ की सूखी पिसी हुई जड़ों में 250 ग्राम बूरा मिलाकर पति व पत्त्नी दोनों, जिस दिन से पत्त्नी का पीरियड शुरू हो, 4-4 चम्मच गर्म दूध में रोजाना 11 दिन तक फंकी लें। जिस दिन यह मिश्रण समाप्त हो, उसी रात से 12 बजे के बाद रोजाना संभोग (सेक्स ) करने से बांझपन की स्थिति में भी गर्भधारण की संम्भावना बढ़ जाती है।

यह प्रयोग पूरे प्रेगनेंसी में जरूर करना चाहिए। जो गर्भवती स्त्री पूरे 9 महीने तक नियमपूर्व रोजाना सुबह और शाम मक्खन मिश्री कालीमिर्च कच्चा नारियल और सौंफ का सेवन करती है। वह निश्चित ही बहुत ही गोरे और स्वस्थ संतान को जन्म देती है। भले ही उसका खुद का रंग गोरा ना हो। आयुर्वेद में पूरे 9 महीनों में करने योग्य विधि विधान बताया है उसका पालन करना चाहिए . How to get pregnant in Hindi

Also Read: जानिए क्यों होते हैं डिलीवरी के बाद महिलाओं में ये बदलाव ?

गर्भावस्था में सावधानियां : Precautions in pregnancy.

  • मल-मूत्र, प्यास और भूख के इच्छाओं को नहीं रोकना चाहिए।
  • अधिक ठन्डे , गर्म, तीक्ष्ण, गरिष्ठ आहार के सेवन से अनेक रोग उत्पन्न होते हैं। गर्भधारण की इच्छुक नारियों को उसे अपथ्य समझना चाहिए।
  • उस प्रकार के व्यायाम भी नहीं करने चाहिए जो शक्ति से बाहर हो।
  • अधिक भोजन तथा अल्प भोजन भी स्वास्थ्य के लिए अनुकूल नहीं होता है।
  • दाम्पत्य जीवन को प्रसन्नता से चलाना चाहिए। शोक, क्रोध चिंता आदि नहीं करनी चाहिए। अधिक रोना, हंसना, कूढ़ना, ईर्ष्या, रखना भी स्वयं के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है और ऐसे भी कारण जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के प्रतिकूल हो उन्हें त्याग देना ही बेहतर होता है। how to get pregnant in hindi.

ये भी खबर पढ़े

loading...