गर्भावस्था में देखभाल, How to get pregnant in Hindi, Pregnancy Tips in...

गर्भावस्था में देखभाल, How to get pregnant in Hindi, Pregnancy Tips in Hindi

3861
0
SHARE
Pregnancy care tips in Hindi

Pregnancy Tips in Hindi – गर्भावस्था में देखभाल

Pregnancy tips in Hindi, How to get pregnant in Hindi गर्भधारण करने का सही तरीका Pregnancy महिला का गर्भवती (Pregnancy) होना सिर्फ उसके लिए ही नहीं बल्कि पूरे Family के लिए ख़ुशी की बात होती है। पर कोई भी गर्भावस्था (Pregnancy) के पहले  एक महीने में महिला को होने वाली परेशानियों के बारे में नहीं जानता। अगर महिला अपनी देखभाल ठीक से नहीं करती तो इससे गर्भ में पल रहे बच्चे को मुश्किलें पेश आती हैं।

How to get pregnant in Hindi

गर्भावस्था(Pregnancy) के दौरान स्वास्थ्य – पहली तिमाही के तथ्य – गर्भावस्था में सावधानियां (Facts on first trimester pregnant in Hindi)

एक महिला के लिए गर्भावस्था (Pregnancy) के पहले ३ महीने काफी चुनौती भरे होते हैं क्योंकि बच्चा इस समय तक पूर्ण विकसित नहीं हुआ होता है। ज़्यादा शारीरिक कार्य,कूदाफांदी तथा तनाव की वजह से गर्भपात भी हो सकता है।

First Month Pregnancy Tips in Hindi – गर्भावस्था का पहला महीना

गर्भधारण(Pregnancy) के लिए महीने का सबसे सही दिन कौन सा? पहली तिमाही का पहला महीना वह समय है जब गर्भनाल विकसित होती है। यह गर्भवती Pregnancy महिला के शरीर के अंदर का वह अंग है जिससे कि महिला द्वारा लिए जाने वला आहार उसके गर्भ में पल रहे बच्चे तक जाता है। यह अंग बच्चे के मल मूत्र को भी एक से दूसरी जगह पहुंचाता है। शुरूआती दौर में महिला के गर्भाशय Pregnancy में एक काला घेरा उभरता है। यह वह अवस्था है जब बच्चे के जबड़े का निचला हिस्सा, मुंह और गला विकसित होते हैं। यह वह अवस्था है जब रक्त कोशिकाएं आकार लेती हैं और बच्चे के शरीर में रक्त का संचार शुरू होता है।

Pregnancy care tips in Hindi-zuban

Two Month Pregnancy Tips in Hindi – गर्भावस्था का दूसरा महीना

पहली तिमाही के दुसरे महीने में बच्चे में कुछ और विकास होता है। यह वह अवस्था है जब बच्चे के चेहरे के भाग आकार लेते हैं। बच्चे के सिर के दोनों कोनों पर त्वचा की छोटी भांजे देखना काफी उत्सुकता भरा होता है। शरीर के ऊपरी और निचले हिस्से में छोटे भाग उभरते हैं जिन्हें हाथ एवं पैर कहा जाता है। इस महीने में पैर के अंगूठे, उँगलियों तथा आँखों का विकास होता है।

इसे पढ़े: डिलीवरी के बाद महिलाओं में ये बदलाव

डॉक्टर इस महीने में बच्चे के दिमाग,न्यूरल कोशिकाओं तथा रीढ़ की हड्डी का विकास भी महसूस करते हैं। इस माह में ही हड्डियां अपने कुरकुरे भाग को बदलने की प्रक्रिया शुरू करती हैं। यह वह समय है जब भ्रूण हिलने लगता है [पर इसके हिलने की गति काफी धीमी होती है अतः माँ इसे समझ नहीं पाती।

3 Month Pregnancy Tips in Hindi- प्रेग्‍नेंसी का तीसरा महीना

यह एक गर्भवती (Pregnant) महिला के लिए तिमाही का अंतिम माह होता है। यह वह माह होता है जब बच्चा पूर्ण रूप से विकसित हो जाता है। उसके सोनोग्राम की तस्वीर में आप उसके शरीर का हर हिस्सा जैसे पैर, हाथ, आँखें तथा नाक आसानी से देख सकते हैं। बच्चा इस स्थिति में अपने मुंह और मुट्ठी को खोलता और बंद करता पाया जाता है। सिर के दोनों तरफ उभरी त्वचा को कान की संज्ञा इस समय दी जा सकती है। यह भी सत्य है कि इस समय बच्चे का प्रजनन अंग भी विकसित होता है परन्तु वह अच्छे से दिखता या समझ में नहीं आता है। इस महीने में बच्चे की औसत लम्बाई ७.६ सेंटीमीटर से १० सेंटीमीटर तक होती है।

Top Best Tips to Get Pregnant Fast in Hindi

  • पुरुष और स्त्री के बीच अच्छी समझ होनी चाहिए क्यूंकि दोनों के बीच प्यार न हो तो भी गर्भ ठहरने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। क्योंकि इस स्थिति में शारीरिक संबंद तो होता है, लेकिन शरीर की अनिक्षा गर्भ ठहरने में बाधक बन जाती है। बांझपन को अपने रिश्ते में तनाव पैदा न करने दें। गर्भ धारण करने का दबाव, साथ ही में आक्रामक और भावनात्मक रूप से तनावपूर्ण प्रजनन उपचार, वास्तव में यौन शिथिलता ला सकते हैं, और गर्भ धारण करने में कठिनाई पैदा कर सकते हैं। सकारात्मकता और अवसर पर जितना संभव हो उतना ध्यान केंद्रित करें।
  • अपने Health and Fitness के साथ-साथ अपने रोजाना के खान पान पर विषेस ध्यान देना चाहिए , फल, सब्जियाँ, दाल, साग इत्यादि का खाने में ज्यादा प्रयोग करें। प्रोटीन और विटामिन युक्त और शुपच्या भोजन करें जो आसानी से पच जाये। पुरुषों को यह सुनिश्चित करना चाहिए की वे पर्याप्त मात्र में वे सेलेनियम ग्रहण करें।
  • Ovaluation Period शुरू होने वाले दिन से चौथी रात से 16वीं रात तक में संबंद बनाना Pregnant  होने में सहायक होता है।
  • पत्नी से संबंद बनाने के बाद 15 से 20 मिनट तक पीठ के बल लेटे रहना चाहिए।
  • पुरुष वर्ग को चाहिए की वो अपने गुपतांग और अंडकोष को गर्म पानी से न धोएँ, Laptop को जांघ में रखकर काम न करें इससे हमारे गुपतांग पे बुरा असर पड़ता है।
  • कोशिश करना चाहिए की 2 या 3 दिन के बीच में शारीरिक सम्बन्ध बनाएँ, इससे करने से शुक्राणुओं की quality में बढ़ोतरी हो जाती है।
  • बाथटब में गर्म पानी से स्नान नही करना चाहिए। गुपतांग को गर्म पानी से दूर रखे इससे शुक्राणुओं के लिए अच्छा नहीं होता है।
  • प्रतेक दिन व्यायाम और योग करे और शरीर को Active बनाये रखें।

Note: दोस्तों हमरा प्रयास यही है की हम आपको सही और सटीक जानकारी दे। इस लेख में जो भी जानकारियाँ दिया गया है वो बहुत अध्यन के उपरान्त ही लिखा गया है। जहाँ Pregnancy के बारे में expert doctors से समय समय पर Pregnancy tips लेते रहे।

data-matched-content-rows-num="2" data-matched-content-columns-num="2" data-matched-content-ui-type="image_stacked">